मंगल पर मिला जीवन का एक बड़ा प्रमाण | Big Evidence of Life On Mars

What Is The Doorway On Mars

Doorway On Mars Nasa – हम आपको ऐसी खबर के बारे मे बतायेगें जिसके बारे मे देख कर आप भी कहेगेें की मंगल ग्रह में यह क्‍या है सबसे पहले आप ये निचे दी गई तस्‍वीर देखिये जो पृथ्‍वी से लगभग 21 करोड़ 10 लाख 50 हजार किलोमीटर दुर मंगल से आयी है।

Doorway On Mars
Doorway On Mars (मंगल ग्रह का द्वार)

मंगल ग्रह का द्वार किसे कह्ते है? – What is the gate of Mars called?

अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी नासा America space agency NASA द्वारा जारी की इन तस्‍वीरोंं में मंगल ग्रह पर चट्टानों के बिच एक रास्‍ता दिखाई दे रहा है जिसे वैज्ञानिकों ने Doorway On Mars का नाम दिया है इसका अर्थ है मंगल ग्रह का दरवाजा या मंगल ग्रह पर मौजुद द्वार।

मंगल ग्रह के द्वार का रहस्‍य – The secret of the door of Mars

नासा के मुताबिक ये तस्‍वीरेंं उसके Curiosity Rover से ली गयी है। जिसे लेकर तीन तरह की संभावनायें है:-

  1. हो सकता है ये प्राकृतिक चट्टानों की बनावट हो।
  2. हो सकता है कि ये एलियंस द्वारा बनाया गया रास्‍ता हो।
  3. हो सकता है कि भूकम्‍प की वजह से चट्टानों में ऐसा रास्‍ता बना हो।

सौरमण्‍डल में ग्रह – Planets in solar system

हमारे सौरमण्‍डल में कुल 8 ग्रह मौजुद है जिसमें मंगल ग्रह का स्‍थान चौथा है। वैसे आज से कुछ वर्ष पहले सौरमण्‍डल में 9 ग्रह थे लेकिन 2006 में International Astronomical Union के एक फैसले के बाद प्‍लूटो Pluto नाम के एक ग्रह से यह दर्जा लेे लिया था। इस तरह ग्रहों की संख्‍या 8 रह गयी, जिनमे Mars, Mercury के बाद दूसरा सबसे छोटा ग्रह है।

मंगल ग्रह पर वैज्ञानिकों की दिलचस्‍पी – Scientists interested in Mars

साइंस की दुनिया में मंगल ग्रह को लेकर वैज्ञानिकों की दिलचस्‍पी कभी कम नही हुई। और यही वजह हैै कि 1960 में मंगल पर उपग्रह भेजने का जो सिलसिला शुरू हुआ वह आज भी जारी है। और अभी मंगल ग्रह से जो Latest Photos आये है वाेे अमेरिका के सेटेलाईट ने भेजी है। 2012 में अमेरिका ने Curiosity नाम के Rover की Mars पर लेंडिग करायी और यह अभी भी काम कर रहा है। हालांकि विज्ञान की दुनिया में यह कहा जाता है कि यह उपग्रह बुढ़ा हो चुका है और अब इसकी मदद के लिये नये उपग्रह मंगल ग्रह पर भेजे जा रहे है।

मंगल ग्रह पर अन्‍य देशों के उपग्रह – Satellites of other countries on Mars

मार्स पर इस समय 5 देशों के उपग्रह मौजुद है इनमें नासा का एक Lander, Mars InSight और एक Rover वहां मौजुद है जबकि तीन Orbiter मंगल की कक्षा मेंं मौजुद है ये मंंगल ग्रह के उपर चक्‍कर लगा रहे है। इनमें भारत का एक Orbiter मंगल यान 1 भी मौजुद है। इसरों ने यह मिशन 5 नवंबर 2013 को लांच किया और उसे एक ही बार में कामयाबी मिल गयी थी।

इसरो का मंंगल यान – ISRO’s Mars Orbiter

सबसे रोचक बात यह है कि भारत ने इस मंगल मिशन पर सिर्फ 448 करोड़ खर्च किये। यानि इस मिशन के सफल होने की किमत 11.5 रूपये प्रति किलोमीटर थी और यह ऑटो रिक्‍शा में बैठ कर मंगल ग्रह तक पहुंचने के बराबर है। भारत के अलावा युरोपीयन यूनियन 2 चीन और यू.ए.ई. का एक-एक Orbiter भी मंगल की कक्षा में मौजुद है। इसके अलावा चीन का एक Rover मंगल ग्रह की सतह पर मौजुद है।

*****************

उम्‍मीद है कि आपको यह पोस्‍ट अच्‍छी लगी होगी। अगर दोस्‍तो आपको यह पोस्‍ट अच्‍छी लगी हो तो आप मुझे Comment करके जरूर बताएं। हम ऐसी ही पोस्‍ट अगली बार आपके लिये फिर लेके आयेगें एक नये अंदाज में और एक नये स्‍पेशल जीके हिंदी के साथ।

दोस्‍तो अगर यह पोस्‍ट आप लोगो ने पढ़ी और आप लोगो को यह पोस्‍ट अच्‍छी लगी तो कृपया ये पोस्‍ट आपके दोस्‍तो व रिश्‍तेदारों को जरूर Share करें। और आप मेरी ये पोस्‍ट Facebook, Instagram, Telegram व अन्‍य Social Media पर Share करें, धन्‍यवाद! में आपके उज्‍ज्‍वल भविष्‍य की कामना करता हुं।

Leave a Comment