What Is Nato In Hindi | Nato Full Form In Hindi

What Is Nato In Hindi, Nato Full Form In Hindi | नाटो क्या है, इसमें कितने देश शामिल है व इसकी स्‍थापना कब हुई?

Nato History In Hindi – हेल्‍लो दोस्‍तो आज हम आपको इस पोस्‍ट के माध्‍यम से नाटो व उसके सदस्‍य देशों Nato Member Countries के बारे में बतायेगें। हम आपको बतायेगें की नाटो क्‍या है? What is Nato?, नाटो का फुल फॉर्म क्‍या है? What Is The Full Form Of Nato?, नाटो में कौन-कौन से देश शामिल है? Which Countries are Included in Nato?, नाटो की स्‍थापना कब हुई? When Was Nato Established?, नाटो का मुख्‍यालय कहां स्थित है? Where is The Headquarters of Nato?, नाटो के महासचिव का क्‍या नाम है? What is The Name Of The Secretary General Of Nato?, क्‍या इंडिया नाटो का सदस्‍य है? Is India a Member of Nato? नाटो से संबधित सभी जानकारियां हम आपको बतायेगें।

nato kya he?, nato ke sadasya desho ke naam?, nato ka full form? nato kaa udheshya?, nato ki sthapana kab hui?, nato kaa mukhyalay kaha sthit he?, nato ke vartman mahasachiv kaa naam kya he?, nato kaa pahla maha sachiv kon tha?, nato ke maha sachiv ki suchi, nato sadasya desho ke naam, kya bharat nato kaa sadasya he?, nato ki funding kese hoti he? 2020 me nato me kon saa desh juda?

नाटो के बार में जानकारी

Nato – North Atlantic Treaty Organization

नाटो की स्‍थापना – ४ अप्रैैैल १९४९

नाटो को और क्‍या कहा जाता है – वाशिंगटन संधि और रक्षा संधि

नाटो का मुख्‍यालय – ब्रुसेल्‍य (बेल्जियम)

नाटो का महासचिव – जेन्‍स स्‍टोल्‍टेनबर्ग (नार्वे)

नाटो के पहले महासचिव – लार्ड हेस्टिंग इस्‍माय

नाटो सदस्‍य देशों की संख्‍या – ३०

नाटो का सबसे बडा सैन्‍य योगदानकर्ता – संयुक्‍त राज्‍य अमेरिका

भारत नाटो का सदस्‍य है – नही

नाटो का फुल फॉर्म – Nato Full Form

उत्‍तरी अंटलाटिक संधि संगठन (North Atlantic Treaty Organization)

नाटो क्‍या है? – What Is Nato?

उत्‍तरी अंटलाटिक संधि संगठन (NATO) एक अंतराष्‍ट्रीय संगठन है जिस पर ४ अप्रैल १९४९ को संयुक्‍त राज्‍य अमेरिका कनाडा एवं अन्‍य पश्चिमी यूरोपीय देशों द्वारा सोवियत संघ रूस के खिलाफ सामुहिक सुरक्षा प्रदान करने के लिये हस्‍ताक्षर किये गये थे। उत्‍तरी अंटलाटिक संधि को वाशिंगटन संधि भी कहा जाता है।

द्वितीय युद्ध के समय जो सबसे ताकतवर देश था वो सोवियत संघ रूस ही था जिसमें बहुत से देशों का समूह होता था जिसका मुख्‍य देश रूस था। इसको देखते हुए द्वितीय युद्ध के बाद ४ अप्रैैल १९४९ को नाटो समूह की स्‍थापना की गई। जिसमें मुख्‍य रूप से यूनाईटेड स्‍टेटस, ब्रिटेन, बेल्जियम आदि सम्मिलित हुए। नाटो का उद्देश्‍य अन्‍य राजनीतिक व सैन्‍य साधनो के माध्‍यम से अपने सदस्‍य देशों की सुरक्षा व देशों के मध्‍य संघर्ष को रोकना है।

नाटो का मुख्‍यालय कहां स्थित है?

नाटो का मुख्‍यालय बेल्जियम की राजधानी ब्रुसेल्‍स में स्थित है। जिसके महासचिव जेन्‍स स्‍टोल्‍टेनबर्ग है जो कि नार्वे के पूर्व प्रधानमंंत्री रह चुके है। नाटो के महासचिव का कार्यकाल ४ वर्ष का है।

नाटो के सदस्‍य देशों की सूची

सन् १९४९ में नाटो के मूल सदस्‍य बेल्जियम, कनाडा, डेनमार्क, फ्रांस, आईसलैंड, इटली, लक्‍जमबर्ग, नीदरलैंड, नार्वे, पुर्तगाल, यूनाईटेड किंगडम व संयुक्‍त राज्‍य अमेरिका थे। अब वर्तमान में नाटो सदस्‍य देशों की संख्‍या ३० तक हो चुकी है। नाटो के सदस्‍य देशों की सूची निचे दी गई है।

क्रं.नाटो सदस्‍य देशवर्ष
१.बेल्जियम १९४९
२.कनाडा१९४९
३.डेनमार्क१९४९
४.फ्रांस१९४९
५.आइसलैंड१९४९
६.इटली१९४९
७.लक्‍जमबर्ग१९४९
८.नीदरलैंड१९४९
9.नार्वे१९४९
१०.पुर्तगाल१९४९
११.यूनाइटेड किंगडम१९४९
१२.संयुक्‍त राज्‍य अमेरिका१९४९
१३.यूनान१९५२
१४.तुर्की१९५२
१५.जर्मनी१९५५
१६.स्‍पेन१९८२
१७.चेक रिपब्लिक१९९९
१८.हंगरी१९९९
१९.पोलैंड१९९९
२०.बुल्‍गारिया२००४
२१.एस्‍तोनिया२००४
२२.लातविया२००४
२३.लिथुआनिया२००४
२४.रोमानिया२००४
२५.स्‍लोवाकिया२००४
२६.स्‍लोवेनिया२००४
२७.अल्‍बानिया २००९
२८.क्रोएशिया२००९
२९.मॉन्‍टेनीग्रो२०१७
३०.उत्‍तर मैसेडोनिया२०२०

नाटो के महासचिवों की सूची

नाटो ने पहले महासचिव का चुनाव ४ अप्रैल १९५२ को किया। उस समय से अब तक १३ राजनायको को आधिकारीक रूप से महासचिव के रूप में चुना गया। इसमे तीन कार्यवाहक महासचिव भी बनाये गये।

क्रं.महासचिवराष्‍ट्रीयताकार्यभारपदमुक्‍त
१.लार्ड हेस्टिंग इस्‍माययूनाइटेड किंगडम२४ मार्च १९५२१६ मार्च १९५७
२.पॉल हेनरी स्‍पाकबेल्जियम१६ मई १९५७२१ अप्रैल १९६१
३.डिर्क स्टिकरनीदरलैण्‍ड21 अप्रैल १९६११ अगस्‍त १९६४
४.मानलियो ब्रोसियोइटली१ अगस्‍त १९६४१ अक्‍टूबंर १९७१
५.जोसफ लूंंसनीदरलैंड१ अक्‍टूबंर १९७१२५ जून १९८४
६.पीटर कर्रिंग्‍टनयूनाइटेड किंगडम२५ जून १९८४१ जुलाई १९८८
७.मैनफ्रेड वर्नर जर्मनी१ जुलाई १९८८१३ अगस्‍त १९९४
सर्जियो बलान्जिनो (कार्यवाहक)इटली१३ अगस्‍त १९९४१७ अक्‍टूबंर १९९४
८.विल्‍ली क्‍लैसबेल्जियम१७ अक्‍टूबंर १९९४२० अक्‍टूबंर १९९५
सर्जियो बलान्जिनो (कार्यवाहक)इटली२० अक्‍टूबंर १९९५५ दिसंबर १९९५
९.जेवियर सोलानास्‍पेन५ दिसंबर १९९५६ अक्‍टूबंर १९९९
१०.जॉर्ज रॉबर्टसनयूनाइटेड किंगडम१४ अक्‍टूबंर १९९९१७ दिसंबर २००३
अलेसांद्रो मिनुतो-रीजजो (कार्यवाहक)इटली१७ दिसंबर २००३१ जनवरी २००४
११.जाप डी हूप शेफरनीदरलैंड१ जनवरी २००४१ अगस्‍त २००९
१२.ऐन्‍डर्स फोग रासमुसनडेनमार्क१ अगस्‍त २००९१ अक्‍टूबंर २०१४
१३.जेन्‍स स्‍टोल्‍टेनबर्गनार्वे१ अक्‍टूबंर २०१४पदस्‍थ

नाटो देश की फंडिंंग

नाटो देशों की जो फंडिंग होती है वो उसके सदस्‍य देशों द्वारा होती है। इसी तरह अमेरिका को नाटो की फंडिंग का बैंकबोन कहा जाता है। क्‍योंकि अमेरिका नाटों देशो की फंडिंग का तीन चौथाई भाग देता है। २०२० में नाटो के सभी समुह का सैन्‍य खर्च विश्‍व के खर्च का ५७% भाग रहा है। नाटो देश ने सहमति के साथ कहा है क‍ि २०२४ तक अपने सकल घरेलु उत्‍पाद के कम से कम २% के लक्ष्‍य रक्षा खर्च तक पहुंचाना है।

************

उम्‍मीद है कि आपको यह पोस्‍ट अच्‍छी लगी होगी। अगर दोस्‍तो आपको यह पोस्‍ट अच्‍छी लगी हो तो आप मुझे Comment करके जरूर बताएं। हम ऐसी ही पोस्‍ट अगली बार आपके लिये फिर लेके आयेगें एक नये अंदाज में और एक नये स्‍पेशल जीके हिंदी के साथ।

दोस्‍तो अगर यह पोस्‍ट आप लोगो ने पढ़ी और आप लोगो को यह पोस्‍ट अच्‍छी लगी तो कृपया ये पोस्‍ट आपके दोस्‍तो व रिश्‍तेदारों को जरूर Share करें। और आप मेरी ये पोस्‍ट Facebook, Instagram, Telegram व अन्‍य Social Media पर Share करें, धन्‍यवाद! में आपके उज्‍ज्‍वल भविष्‍य की कामना करता हुं।

Leave a Comment