ग्राम विकास अधिकारी कैसे बनें? | How to become a Village Development Officer?

आज हम जानेगें की VDO (Village Development Officer) याने कि ग्राम विकास अधिकारी कैसे बने? ग्रमीण क्षैत्र में विकास के लिये ग्राम विकास अधिकारी यानी VDO का नोटिफिकेशन निकलता है। पंचायती राज विभाग द्वारा ग्रामीण स्‍तर पर प्रशासनिक कार्य के लिए ग्राम विकास अधिकारी की नियुक्ति की जाती है।

ग्राम विकास अधिकारी क्‍या होता है?

ग्राम विकास अधिकारी ग्रामीण विकास मंत्रालय के अंतर्गत आने वाला एक सरकारी पोस्‍ट है। VDO (Village Development Officer) गांव में विकास कार्यो के लिये होता है। गांव मेंं रहने वाले लोगों के जीवन को आसान और बेहतर बनाने के लिये सरकार लगातार कोशिश करती रहती है। इसके कारण ही गांव में सडके, स्‍कूल, अस्‍पताल बनाये जाते है और खेती, किसानी से जुडी नई-नई तकनीकेंं पहुंचाई जाती है। ये सारे कार्य ग्राम विकास अधिकारी के माध्‍यम से ही सरकार द्वारा किये जाते है।

ग्राम विकास अधिकारी के काम की बात करें तो इसका काम सरपंच के साथ मिलकर विकस कार्यो की रूपरेखा बनाना, विकास कार्यो की समीक्षा और निगरानी करना, सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं को ग्रामीण जनता तक पहुचाना, ग्रामसभा और ग्राम पंचायत के कार्यो को सुपरवाईज करना, गांव में स्‍वच्‍छता, पेयजल, बिजली जैसी बुनियादी सुविधाओं की व्‍यवस्‍था करवाना, खाद, बीज व सिंचाई जैसी कृषि जरूरतें की व्‍यवस्‍था करवाना, जन्‍म, मृत्‍यू, विवाह और अन्‍य रिकार्ड का रखरखाव ये सब काम एक ग्राम विकास अधिकारी के अधीन आता है।

Qualification क्‍या चाहिए?

दोस्‍तो ग्राम विकास अधिकारी बनने के लिये आपका 12वीं पास होना जरूरी है। और वहीं कुछ राज्‍यों मेंं इस पद के लिये 12वीं के साथ कम्‍प्‍यूटर में डिप्‍लोमा भी मांगा जाता है। 12वीं में आपका कोइ्र भी सब्‍जेक्‍ट चलेगा आपका विषय जैसे आर्ट, कामर्स या साईंस है आप यह फार्म भर सकते है।

परिक्षा कौन-सी देनी होती है?

अगर आप ग्राम विकास अधिकारी बनने की सोच रहे है तो आप सोचेगें कि इसके लिये फॉर्म कौन-सा भरें। तो आपको बता दूं कि इसका फॉर्म राजस्‍व विभाग द्वारा निकाला जाता है। सभी राज्‍य सरकार अपनी-अपनी सुविधानुसार ग्राम विकास अधिकारी यानी Village Development Officer नाम से फॉर्म निकालती है। आप इसकी प्रमाणिक वेबसाईट पर जाकर फॉर्म भर सकते है।

फॉर्म कब निकलता है?

इसके फॉर्म आने का कोई फिक्‍स तारीख नही है लेकिन अधिकतर जून-जूलाई के बिच पहले सप्‍ताह में फॉर्म आ जाता है। वैसे अलग-अलग राज्‍यों में अलग-अलग महीनों में वेकेसीं आती है। हालांकि आपको बता दें कि सरकार को जब कर्मचारियों की आवश्‍यकता होती है तब ग्रामीण विकास मंत्रालय की तरफ से वेकेसीं निकाली जाती है।

Age limit क्‍या है?

अगर आप इस पोस्‍ट के लिये अप्‍लाई करने की सोच रहे है तो आपको बता दूं की आपकी उम्र 18 वर्ष से लेकर 40 वर्ष के बीच होनी चाहिए, तभी आप इसका फॉर्म भर पायेगें। ध्‍यान रखें कि केटेगरी वाईज उम्र सीमा में छुट का भी प्रावधान है।

परिक्षा पेटर्न क्‍या है?

दोस्‍तो परिक्षा पेटर्न की बात करू तो सबसे पहले रीटेल टेस्‍ट होता है जो कि 300 अंकों का होता है। इसको हल करने के लिये 2 घंटे का समय दिया जाता है। सभी प्रश्‍नो के लिये 2-2 नंबर दिये जाते है। वहीं दो गलत उत्‍तर के लिये एक सही जवाब के अंक काट लिये जाते है। इसका पेपर तीन भागों में बटा होता है:-

  1. Hindi Knowledge & Writing – इसमें 50 प्रश्‍न पूछे जाते है जो कि 100 अंक के होते है।
  2. General Intelligence Test – इसमें भी 50 प्रश्‍न पूछे जाते है जो कि 100 अंक के होते है।
  3. General Knowledge – इसमें भी 50 प्रश्‍न पूछे जाते है जो कि 100 अंक के होते है।

इसका Syllabus क्‍या है?

जब आप ग्राम विकास अधिकारी पद की परिक्षा के लिये तैयारी करते है तो ऐसे में इस परिक्षा मे कैसे प्रश्‍न पूछे जाते हे उनका सिलेेबस Syllabus क्‍या होता है जान लेना जरूरी होता है। ग्राम विकास अधिकारी की परिक्षा के पेपर को तीन भागों में बाटा गया है:-

  1. हिंदी लेखन – इसमे छात्रों से हिंदी भाषा के बारे में पूछा जाता है, अलंकार, रस, समास, पर्यायवाची, विलोम, तत्‍सम इत्‍यादि प्रश्‍न पूछे जाते है।
  2. सामान्‍य ज्ञान – इसमें सामान्‍य ज्ञान के बारे में पुछा जाता है।
  3. रीजनिंग – इसमें रीजनिंग के बारे में पुछा जाता है।

सैलरी कितनी मिलती है?

दोस्‍तो इस JOB के नाम में भले ही अधिकारी शब्‍द लगा है पर असल में ये एक Clerical Job ही है। एक ग्राम विकास अधिकारी की सैलरी लगभग 22,500/- रूपये महीना होती है। साथ में कई तरीके के Allowance भी मिलते है। लेकिन इसमे अच्‍छी बात यह है कि आगे चलकर एक VDO की तरक्‍की ADO, BDO व उससे भी अच्‍छे पदों पर हो सकती है।

इसकी तैयारी कैसे करें?

दोस्‍तो ग्राम विकास अधिकारी बनना है तो इसके लिये एक टाईम टेबल बनाईये और पेपर की तैयारी करें। टाईम टेबल के आधार पर आप रोजाना पढ़ाई करें। टाईम टेबल में हर विषय को बराबर का समय दें। लेकिन जिस विषय में आप कमजोर है उसे ज्‍यादा समय दें। इसके साथ ही रोजाना पुराने पेपर को हल करें। आप चाहें तो YouTube Channel से भी इसकी तैयारी कर सकते है।

और पढ़े –

***************

उम्‍मीद है कि आपको यह पोस्‍ट अच्‍छी लगी होगी। अगर दोस्‍तो आपको यह पोस्‍ट अच्‍छी लगी हो तो आप मुझे Comment करके जरूर बताएं। हम ऐसी ही पोस्‍ट अगली बार आपके लिये फिर लेके आयेगें एक नये अंदाज में और एक नये स्‍पेशल जीके हिंदी के साथ।

दोस्‍तो अगर यह पोस्‍ट आप लोगो ने पढ़ी और आप लोगो को यह पोस्‍ट अच्‍छी लगी तो कृपया ये पोस्‍ट आपके दोस्‍तो व रिश्‍तेदारों को जरूर Share करें। और आप मेरी ये पोस्‍ट Facebook, Instagram, Telegram व अन्‍य Social Media पर Share करें, धन्‍यवाद! में आपके उज्‍ज्‍वल भविष्‍य की कामना करता हुं।

Leave a Comment