भारतीय ध्वज संहिता के बारे में वह सब कुछ जो आपको जानना आवश्यक है | Information about the indian flag in hindi

भारतीय ध्वज संहिता भारतीय राष्ट्रीय ध्वज के उपयोग प्रदर्शन और फहराने के बारे में कानूनों और परंपराओं का एक समूह है। इसे 26 जनवरी, 2002 को लागू किया गया था। भारत सरकार ने हाल ही में इसके कुछ प्रावधानों में संशोधन किया।

भारत का ध्वज संहिता क्या है?

भारतीय ध्वज संहिता राष्ट्रीय ध्वज के प्रदर्शन के लिए सभी कानूनों, परंपराओं, प्रथाओं और निर्देशों को एक साथ लाती है। यह निजी, सार्वजनिक और सरकारी संस्थानों द्वारा राष्ट्रीय ध्वज के प्रदर्शन को नियंत्रित करता है।

राष्ट्रीय ध्वज को बनाने के लिए किस सामग्री का उपयोग किया जा सकता है?

भारतीय ध्वज संहिता 2002 को 30 दिसंबर, 2021 के आदेश द्वारा संशोधित किया गया था और पॉलिएस्टर या मशीन से बने ध्वज से बने राष्ट्रीय ध्वज को अनुमति दी गई है। अब राष्ट्रीय ध्वज हाथ से कटा और हाथ से बुना या मशीन से बने cotton/polyester/woo1/silk/khadi की पट्टी से बनाया जाएगा।

राष्ट्रीय ध्वज का आकार

राष्ट्रीय ध्वज आयताकार हो सकता है। यह किसी भी आकार का हो सकता है लेकिन राष्ट्रीय ध्वज की लंबाई और ऊंचाई (चौड़ाई) का अनुपात 3:2 होना चाहिए।

क्या मैं अपने घर पर राष्ट्रीय ध्वज फहरा सकता हूँ?

सार्वजनिक, निजी संगठन या शैक्षणिक संस्थान का कोई सदस्य राष्ट्रीय ध्वज की गरिमा और सम्मान का पालन करते हुए सभी दिनों या अवसरों पर राष्ट्रीय ध्वज फहरा सकता है।

राष्ट्रीय ध्वज को खुले में/घर पर फहराने का समय क्या है?

केंद्र ने भारतीय ध्वज संहिता में संशोधन किया और राष्ट्रीय ध्वज को दिन और रात दोनों समय फहराने की अनुमति दी, यदि इसे खुले में या जनता के किसी सदस्य के घर पर फहराया जाता है। पहले तिरंगा केवल सूर्योदय और सूर्यास्त के बीच ही फहराया जा सकता था।

अपने घर में राष्ट्रीय ध्वज फहराते समय मुझे किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

जब भी राष्ट्रीय ध्वज प्रदर्शन पर होता है तो उसे सम्मान की स्थिति में होना चाहिए और स्पष्ट रूप से रखा जाना चाहिए। क्षतिग्रस्त या अस्त-व्यस्त राष्ट्रीय ध्वज को प्रदर्शित नहीं किया जाना चाहिए। किसी अन्य झंडे या ध्‍वज पटट को इसके साथ किसी दूसरे ध्‍वज या ध्‍वज से अधिक नहीं रखा जाना चाहिए।

इसके अलावा, राष्ट्रीय ध्वज का उपयोग पोशाक या वर्दी या किसी भी विवरण के सहायक के रूप में नहीं किया जाना चाहिए जो किसी भी व्यक्ति की कमर के नीचे पहना जाता है और न ही इसे कशीदाकारी या कुशन, रूमाल, नैपकिन, अंडरगारमेंट्स या किसी भी ड्रेस सामग्री पर मुद्रित किया जाना चाहिए।

क्या मैं अपनी कार पर राष्ट्रीय ध्वज प्रदर्शित कर सकता हूँ?

कारों पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने का विशेषाधिकार केवल निम्नलिखित तक ही सीमित है:

  • राष्ट्रपति
  • उपाध्यक्ष
  • राज्यपाल और उपराज्यपाल
  • भारतीय मिशनों/पोस्टों के प्रमुख
  • प्रधान मंत्री
  • कैबिनेट मंत्री, राज्य मंत्री और संघ के उप मंत्री
  • किसी राज्य या केंद्र शासित प्रदेश के मुख्यमंत्री और कैबिनेट मंत्री
  • लोकसभा अध्यक्ष, राज्यसभा के उपसभापति, डिप्टी स्पीकर
  • लोकसभा के अध्यक्ष, राज्यों में विधान परिषदों के अध्यक्ष
  • राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में विधान सभाओं के उपाध्यक्ष
  • राज्यों में विधान परिषद विधान सभाओं के उपाध्यक्ष

राज्य और केंद्र शासित प्रदेश

  • भारत के मुख्य न्यायाधीश
  • सुप्रीम कोर्ट के जज
  • उच्च न्यायालयों के मुख्य न्यायाधीश
  • उच्च न्यायालयों के न्यायाधीश

राष्ट्रीय ध्वज को disposed कैसे किया जाना चाहिए?

यदि राष्ट्रीय ध्वज क्षतिग्रस्त हो जाता है, तो इसे व्यक्तिगत रूप से, अधिमानतः राष्ट्रीय ध्वज की गरिमा को ध्यान में रखते हुए जलाकर या किसी अन्य तरीके से नष्ट कर दिया जाना चाहिए। राष्ट्रीय ध्वज यदि कागज का बना हुआ है तो आम जनता द्वारा लहराया जाता है, इन झंडों को जमीन पर नहीं फेंकना चाहिए। राष्ट्रीय ध्वज की गरिमा को ध्यान में रखते हुए इन्हें निजी तौर पर त्याग देना चाहिए।

राष्ट्रीय ध्वज का अपमान करने पर तीन साल की जेल होगी।

***************

उम्‍मीद है कि आपको यह पोस्‍ट अच्‍छी लगी होगी। अगर दोस्‍तो आपको यह पोस्‍ट अच्‍छी लगी हो तो आप मुझे Comment करके जरूर बताएं। हम ऐसी ही पोस्‍ट अगली बार आपके लिये फिर लेके आयेगें एक नये अंदाज में और एक नये स्‍पेशल जीके हिंदी के साथ।

दोस्‍तो अगर यह पोस्‍ट आप लोगो ने पढ़ी और आप लोगो को यह पोस्‍ट अच्‍छी लगी तो कृपया ये पोस्‍ट आपके दोस्‍तो व रिश्‍तेदारों को जरूर Share करें। और आप मेरी ये पोस्‍ट Facebook, Instagram, Telegram व अन्‍य Social Media पर Share करें, धन्‍यवाद! में आपके उज्‍ज्‍वल भविष्‍य की कामना करता हुं।

Leave a Comment